जलमंडल:समुद्र,खाड़ी,शोल,प्रशांत महासागर,हिंद महासागर,आर्कटिक महासागर

जलमंडल

 संपूर्ण पृथ्वी पर लगभग 71% जल मंडल का विस्तार है उत्तरी गोलार्ध का 61% और दक्षिणी गोलार्ध का 81% भाग महासागरों से ढका है। पृथ्वी पर उपस्थित जल की कुल मात्रा का 97.5% महासागरों में है। जो खारा है जल राशि का मात्र 2.5% भाग पर मीठा जल है जो पीने योग्य है। महासागरीय जल के दो महत्वपूर्ण गुण है। तापमान एवं लवणता

जलमंडल का वह बड़ा भाग जिसकी कोई निश्चित सीमा न हो महासागर कहलाता है। सबसे बड़ा महासागर प्रशांत महासागर है। महासागरों की औसत गहराई 3800 मीटर तथा स्थल की औसत ऊंचाई 840 मीटर होती है स्थल की ऊंचाई तथा महासागरों की गहराई को उच्चतापमितीय द्वारा प्रदर्शित किया जाता है।

समुद्र-: जलमंडल का  वह बड़ा भाग जो तीन तरफ से जल् से घिरा हो और एक तरफ महासागर से मिला हो समुद्र कहलाता है।

खाड़ी-: समुंदर का स्थलीय भाग में प्रवेश कर जाने पर जो जल का क्षेत्र बनता है उसे खाडी कहते हैं।

शोल-: जलमग्न उत्थान का वह भाग जहां जल की गहराई छीछली होती है शोल कहलाता है। यह प्रवाल से बना नहीं होता है।

प्रशांत महासागर-: यह अपने संलग्न में समुद्रों के साथ धरातल का 1/3 भाग ढकता है इसका क्षेत्रफल 165723740 वर्ग किलोमीटर है। इसकी आकृति त्रिभुजाकार एवं क्षेत्रफल संपूर्ण स्थल के क्षेत्रफल से अधिक है इसके सीट्स बेरिंग जलडमरूमध्य पर व आधार अण्टार्कटिका महादीप है। भूमध्य रेखा पर इसकी लंबाई 16000 किलोमीटर से भी अधिक है इसके पश्चिम में एशिया तथा आस्ट्रेलिया महाद्वीप तथा पूर्व में उत्तरी एवं दक्षिणी अमेरिका तथा दक्षिण में अण्टार्कटिका महाद्वीप है। 

प्रवाल भित्तिया प्रशांत महासागर की प्रमुख विशेषता है इस  महासागर में कुल मिलाकर 2000 से भी अधिक द्वीप हैं । पूर्व की ओर केवल कैलिफोर्निया की खाड़ी ही स्थित है इसके बेसिन की औसत गहराई 7300 मीटर है।

अटलांटिक महासागर की तटरेखा बहुत कटी फटी है इसके कारण इसकी तट रेखा की लंबाई प्रशांत एवं हिंद महासागर की तट रेखा की कुल लंबाई से अधिक है कटी फटी तटरेखा पर बहुत अच्छे बंदरगाह होते हैं व्यापार के दृष्टिकोण से अटलांटिक महासागर संसार का सबसे अधिक व्यस्त महासागर है।

हिंद महासागर

इसके उत्तर में एशिया महाद्वीप दक्षिण में अटलांटिका

महाद्वीप पूर्व में आस्ट्रेलिया महाद्वीप तथा पश्चिम में अफ्रीका महाद्वीप है यह एक अर्ध महासागर है इसका कुल क्षेत्रफल 73425500 वर्ग किमी है यह एक तरफ प्रशांत महासागर और दूसरी तरफ अटलांटिक महासागर में मिला है। कर्क रेखा इस महासागर के उत्तर सीमा है। इसमें भारत के दक्षिण – पश्चिम तट के समीप लक्षदीप और मालदीप प्रवाल द्वीपों के उदाहरण है। मारीसन और यूनियन द्वीप ज्वालामुखी प्रक्रिया से उत्पन्न महासागर का सबसे बड़ा द्वीप मेडागास्कर है मेडागास्कर के पूर्व में मांरीशन द्वीप है। इस महासागर में वास्तविक तटवर्ती सागर दो ही है। लाल सागर और फारस की खड़ी। अरब सागर तथा बंगाल की खाड़ी की गणना भी सागरों में ही की जाती है लेकिन यह हिंद महासागर के उत्तरी विस्तार मात्र ही हैं। डियागो गार्सिया द्वीप इसी महासागर में है।

आर्कटिक महासागर

उत्तरी ध्रुव के चारों ओर है यह आर्कटिक वृत्त के अंदर स्थित है वास्तव में यह अटलांटिक महासागर का उत्तरी भाग द्वारा प्रशांत महासागर से जुड़ा है। यह यूरोप, एशिया एवं उत्तरी अमेरिका के उत्तरी तट से घिरा है इसका अधिकांश भाग बर्फ की मोटी परतों से ढका रहता है।

Leave a Comment